Wednesday 28th of February 2024 06:48:07 PM

निदेशक का सन्देश

उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत और कला अकादमी के लिए कलाधर्मी श्री जयंत भिसे जी निदेशक पद पर नियुक्त है। श्री भिसे जी करीब बीस सामाजिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक और खेल संगठनों से जुड़े हैं, मराठी सोशल ग्रुप के गठन के पीछे भी उनका योगदान है जो शहर में अनेक आयोजन का सूत्रधार है, पहले वे एक को ऑपरेटिव बैंक में जीएम थे, अब वीआरएस लेकर कल्चरल कोऑपरेटिव मूवमेंट चला रहे हैं। भारत की विभिन्न शास्त्रीय नृत्य कला पर एकाग्र खजुराहो नृत्य समारोह मध्यप्रदेश शासन द्वारा विगत 49 वर्षों से निरन्तर आयोजित किया जा रहा है। खजुराहो नृत्य समारोह के अन्तर्गत आयोजित भारतीय नृत्य शैलियों की प्रस्तुतियों के साथ ही साथ भारतीय नृत्य शैली का सांस्कृतिक परिदृश्य एवं कलायात्रा नेपथ्य भारत सहित विश्व के अन्य देशों की कला प्रदर्शनी आर्ट मार्टश् कलाकार और कलाविदों का संवाद कलावार्तावरिष्ठ चित्रकार श्री लक्ष्मीनारायण भावसार के कला अवदान पर एकाग्र प्रदर्शनी ष्प्रणातिश् देश, ज्ञान एवं कला परम्परा का मेला हुुुनर, परम्परा और कलाकारों पर केन्द्रित फिल्मों का प्रदर्शन चल चित्र तथा राज्य रूपंकर कला पुरस्कार एवं प्रदर्शनी मध्यप्रदेश आदि गतिविधियाँ संयोजित की जा रही हैं। संगीत जगत में भारतीय शास्त्रीय संगीत को सुरम्यए मनोहरी वाटिका में भिन्न-भिन्न प्रकार के पुष्पों की सरमयी महक से संगीत सम्राट की साधना की नगरी ग्वालियर विश्व संगीत समागम तानसेन समारोह के माध्यम से महकती रही है। संगीत के गाने, गुरु शिष्य परम्परा और संगीत साधक संगीत की विरासत के इस महान उपक्रम में अपनी सक्रिय सहभागिता से समारोह में श्रीवृद्धि करते हैं। तानसेन समारोह के माध्यम से न केवल स्थानीय, प्रादेशिक और राष्ट्रीय स्तर के प्रतिष्ठित संगीत साधक बल्कि सुदूर देशों के संगीतज्ञ भी अपने संगीत की खुशबू विखेरते रहे हैं।

 निदेशक, महोदय द्वारा सभी संगीतज्ञ और कला रसिकों को शुभकामनाएँ प्रेषित की।


 
 
जयंत माधव भिंसे
निदेशक
उस्ताद अलाउद्दीन खाँ संगीत एवं कला अकादमी, भोपाल